तुलसी का पौधा किस दिन उखाड़ना चाहिए | 4 AMAZING TIPS ON WHICH DAY SHOULD THE BASIL PLANT BE UPROOTED

तुलसी के पौधे को हिंदू धर्म में पवित्र माना जाता है और इसे जगत माता का दरबार माना जाता है। यह कई चमत्कारी गुणों वाला एक प्राचीन औषधीय पौधा है। तुलसी का पौधा, जो ज्यादातर भारतीय घरों में पाया जाता है, आमतौर पर उपवास, पूजा और औषधीय प्रयोजनों के लिए उपयोग किया जाता है। यहां हम जानेंगे कि इसका पौधा कब उखाड़ना चाहिए, साथ ही इसके बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी भी।

तुलसी का पौधा किस दिन उखाड़ना चाहिए

1. व्यवसायिक उपयोग के लिए

व्यावसायिक उपयोग के लिए तुलसी के पौधों को जड़ से उखाड़ने के लिए, यह सुनिश्चित करना चाहिए कि पौधे पर्याप्त आयु के हों। यह आम तौर पर ग्राहकों के विचारों और उपयोग के आधार पर निर्धारित किया जाता है। अधिकांश पौधों की प्राकृतिक पत्तियों और शाखाओं को तोड़कर उगाया जा सकता है।

2. पूजा और आध्यात्मिक उपयोग के लिए

पूजा या आध्यात्मिक उपयोग के लिए तुलसी के पौधे को उखाड़ने के लिए एक उपयुक्त दिन और तारीख का चयन करना चाहिए। ऐसा खास दिनों और बड़े त्योहारों जैसे कि जन्माष्टमी, दशहरा और दीपावली पर किया जा सकता है। ऐसे समय में तुलसी का पौधा अनुष्ठान का हिस्सा बन जाता है और पूजा में उपयोग के लिए उखाड़ दिया जाता है।

3. बीमारियों के उपयोग के लिए

आपको सावधान रहने और औषधीय प्रयोजनों के लिए तुलसी के पौधे को उखाड़ने का सही समय चुनने की आवश्यकता है।इस पोधे के पत्तों और बीजों की कटाई तब की जा सकती है जब वे पूरी तरह से विकसित और हरे हो जाएं। ऐसा आमतौर पर सर्दियों में होता है जब पौधा अधिक सक्रिय होता है और इसके औषधीय गुण प्रचुर मात्रा में होते हैं।

4. स्थिति के अनुसार

इस पौधे को उखाड़ने के लिए आपको पौधे की स्थिति पर ध्यान देना होगा। यदि पौधा स्वस्थ है, अच्छी तरह से विकसित है, उसमें कई पत्तियाँ और शाखाएँ हैं, तो उसे उखाड़ा जा सकता है। वहीं, अगर पौधा कमजोर या संक्रमित है तो उसका उपचार करना चाहिए न कि उखाड़ना चाहिए।

अमेज़न से राम तुलसी और कृष्ण तुलसी का पौधा और गमले में खरिदने के लिए नीचे क्लिक करें

तुलसी के पौधों को उखाड़ने की विधि

* सबसे पहले इस पोधे के आसपास की मिट्टी हटा दें. इसके लिए आप रेजर या अन्य उपयुक्त उपकरण का उपयोग कर सकते हैं।
* फिर कटोरे में गर्म पानी भरें और दूध डालें इस मिश्रण को पौधे के चारों ओर डालें। इससे यह सुनिश्चित होगा कि पौधे की जड़ें अच्छी तरह से पोषित और स्वस्थ हैं।
* फिर ध्यानपूर्वक इस पोधे की जड़ को अलग कर लें। अब पौधे को कोई नुकसान नहीं होगा ।* इस पोधे की जड़ को हटाकर हल्की हवा से सुखा लें।
* सूखने के बाद इस पोधे की जड़ को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें।
* फिर इन हिस्सों को पानी में डालकर अच्छे से धो लें।
* धोने के बाद गमले को रोपें और बढ़ने दें।
* इस पौधे को धूप वाली जगह पर रखें जहाँ पौधे को पर्याप्त मात्रा में धूप मिल सके ।

हमने ऊपर आपको लेख में बताया है कि पौधे को कब उखाड़ना चाहिए और कैसे उखाड़ना चाहिए सारी विधि हमने आपको ऊपर लेख में विस्तार में बतायी है ।आप इस विधि का प्रयोग करके तुलसी के पौधे को उखाड़ सकते हैं लेकिन ध्यान रहे कि जब आवश्यकता हो तभी पौधे को उखाड़े अन्यथा यह आपके लिए अशुभ भी हो सकता है क्योंकि भारतीय परंपराओं के अनुसार यह तुलसी के पौधे में देवी देवताओं का वास माना जाता है ।

इसे भी जरूर पढ़ें:ब्लड प्रेशर में तुलसी फ़ायदे | TOP 3 AMAZING BENIFITS OF BASIL IN BLOOD PRESSURE

इसे भी जरूर पढ़ें:तुलसी का पौधा किसी को देना चाहिए या नहीं ?तुलसी में दूध चढ़ाने से क्या होता है ?तुलसी से शराब छुड़ाने के उपाय| SHOULD TULSI PLANT BE GIVEN TO ANYONE OR NOT? WHAT HAPPENS IF MILK IS ADDED TO TULSI? TOP 3 AMAZING WAYS TO GET RID OF ALCOHOL FROM TULSI

1 thought on “तुलसी का पौधा किस दिन उखाड़ना चाहिए | 4 AMAZING TIPS ON WHICH DAY SHOULD THE BASIL PLANT BE UPROOTED”

Leave a Comment